Tag: #poetryisnotdead

मैं कौन? तुम्हारा बैंच!

No Comments
मैं कौन तुम्हारा बैंच! - JNVFamily.In

मैं कौन? तुम्हारा बैंच!

मैं बोल रहा हूँ !
मैं कौन ?
भुल गये ना तुम !
स्कूल याद है तुम्हें ,
क्लासरुम भी याद होगा
मगर मुझे भुल गये..!
स्कूल का अधिकतम समय
तुमने मेरे साथ ही गुज़ारा
और मुझे ही भुल गये ?
क्या भुल गये,
जब एक कक्षा पास होकर
अगली कक्षा में जाते थे
तो मुझे भी साथ ले जाते
या पूरी कोशिश करते
कि मेरे जैसा ही कोई मिले ।
तुम भुल गये कैसे मेरी गोद में
सिर रखकर सोया करते थे तुम ,
या निराशा में झुका लेते थे
अपना सिर मेरे उपर,
देखे हैं मैंने तुम्हारे छुपे हुए आंसू
जो कभी मेरे किनारों से
पोछ लेते थे तुम ।
हमेशा ही गवाह रहा हूँ मैं
कि तुमने कितना चाहा है उसे ,
तुम्हारी हर कॉपी के कितने ही
पन्नों में उभरता हुआ उसका नाम ,
जो मेरे रंग की परतों में
अब भी दबा है वैसे ही,
वो दिल जो उकेरा था
तुमनें अपने डीवाइडर से ।
मेरे असंतुलित होने पर
कैसे कागजों के सहारे
तुम मुझे संतुलित कर देते
कि हम आराम से लम्बा समय
साथ बिता सकते है
मैं तुम और वो जगह जहाँ
हम हमेशा जमे रहते ।
देखी है मैंने तुम्हारी बेचैनी ,
जब तुम कभी मुझे नही पाते
और झगड़ा तक कर लेते मेरे लिये ।
मगर याद है मुझे वो आखिरी दिन
जब हम साथ थे ,
12वीं बोर्ड की परीक्षा के लिये
मैं एम.पी. हॉल में था ।
तुम फिर भी नहीं मिले मुझसे
मुझे लगा तुम आओगे ,
आखिरी बार अलविदा कहने ,
मुझे आंख भर देखने
जैसे तुमने कैपंस की हर चीज़ देखी ।
मगर तुम नहीं आये ।
अब कभी लौटो तो क्या पहचान लोगे मुझे ?
– अरिहंत जैन
Arihant Jain - JNVFamily.In

अरिहंत जैन

Alumni Of JNV Multhan, M.P.
Batch:- 2003-2010
You Can Follow Him By Liking His Facebook Page By Clicking The Below Button
Image Credits
Photo by Haseeb Modi on Unsplash Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #अरिहंत जैन, #jnv, #jnv M.P., #jnv Multhan, # JNV MadhyaPradesh, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, मैं कौन? तुम्हारा बैंच! #main Kaun? tumhara bench,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

नवोदय: एक अनोखा पिंजरा

No Comments
नवोदय एक अनोखा पिंजरा - JNVFamily.In

नवोदय: एक अनोखा पिंजरा

आँखों में आँसूओं का सैलाब लिये
माँ की आँखों का तारा
अपनी बहनों का प्यारा
ये कहानी है उस पंछी की
जो था अपने घर का दुलारा।
नन्हीं सी उम्र में वो तन्हा
सबसे दूर जा रहा था
देखों इक पंछी आज
पिंजरे में कैद हो रहा था!
मग़र वहां की हर बात
निराली थी
कभी शरारतें और मौज मस्ती
तो कभी पढ़ाई की गंभीरता
भारी थी!
कभी एक दूसरे की टाँग खिंचाई
तो अगले ही पल वो
बन जाते भाई भाई।
जाति धर्म के लिहाज़ से
परे था वो जहां
क्योंकि ‘नवोदय’ ही पहचान थी
बस उनकी वहां।
स्कूल की चहलकदमी में वह
बिल्कुल बदल गया था
पर निकाल ये पंछी
अब जवां हो रहा था।
हरगिज़ ये पंछी उस
पिंजरे का आदी हो रहा था
देखो इक पंछी पिंजरें से
ही बेइंतहा मुहब्बत कर बैठा था!
मग़र इस इश्क़ की हवा में
वो बेचारा बहता जा रहा था
न चाहते अब वो पंछी पिंजरें से
आजाद होने जा रहा था।
सात सालों का ये सफर अब
आखिरी मोड़ पर आया था
बस फिर से ये लम्हा अपनी
शुरूआती दौर में आया था।
आँखों में आँसूओं का सैलाब लिये
अध्यापकों की आखों का तारा
लोगो के दिलों का राजा
ये कहानी थी उस पंछी की
जो अब अपने घर से दूर जा रहा था!
– दुर्गेश पाल
Durgesh Pal - JNVFamily.In

दुर्गेश पाल

Alumni Of JNV Hardoi, U.P.
Batch:- 2011-2018
You Can Follow Him On Instagram By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #दुर्गेश पाल, #jnv, #jnv U.P., #jnv Hardoi, # JNV UttarPradesh, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #नवोदय: एक अनोखा पिंजरा, #Navodaya: Ek Anokha Pinjra,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

नवोदय की कहानी

No Comments
नवोदय की कहानी - JNVFamily.In

नवोदय की कहानी

कभी होठों की मुस्कान,
तो कभी आखों का पानी,
कुछ ऐसी ही थी अपने
“नवोदय” की कहानी।
वो 5 बजे की सीटी,
वों रोज़ की मॉर्निंग पीटी,
रुलाती थी तब, अब
यादें हैं मीठी।
वो 6 फीट की नवोदय प्रार्थना,
वो बीच में इधर उधर झाकना।
वो रोज़ का प्रिंसिपल का भाषण,
वो दशहरे का बड़ा सा रावण।
वो होली का डांस,
वो छुपके मोबाइल रखने का चांस,
कभी पकड़े जाने का डर
पर अपनी मस्ती के आगे सब बेअसर।
वो छोटी छोटी बातें, वो
मस्ती भरी रातें,
वो हाउस टीशर्ट बदलना,
वो व्हाइट शूज़ कों चौक से मलना।
वो ब्रेक के पारले जी बिस्किट,
वो सैटर्डे लंच वाली कढ़ी,
किस्से है छोटे मगर
यादें हैं बहुत बड़ी।
वो लाइट जाने के बाद सबका चिल्लना,
वो दोस्तों से लड़ना,वो रूठना मनाना।
कितनी खुशनुमा थीं जिंदगी,
उन यारों में,
जिसे कहा था जेल कभी,
अब समझ आता हैं कितनी
आज़ादी थी उन तारों में।।
शर्त लगी थी खुशियों को एक
लफ्ज़ में लिखने की,
लोग किताबे ढूंढते रह गए
और हमने”नवोदय’ लिख दिया।
समय के गुज़रे पन्नों को,
फिर एक किताब की
तरह खोला है,
उसे पढ़कर मेरे दिल का हर कोना,
मै एक #NAVODIYAN हूं बोला है।
वो पंछी है हम नवोदय वाले…..
एक छोटा सा स्कूल, जिनका
संसार हो गया,
साली आजादी मिली पिंजरे से
तब, जब पिंजरे से प्यार हो गया।
– Naincy Shrivastava
Naincy Shrivastava - JNVFamily.In

Naincy Shrivastava

Alumni Of JNV Kaloi Jhajjar, Haryana
2013-2017
You Can Follow Her On Instagram By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #Naincy Shrivastava, #jnv, #jnv Haryana, #jnv Jhajjar, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #Navodaya Ki Kahani, #Story Of Navodaya,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

दीवारों में कैद खुशियों का नगर दिखाता हूँ

No Comments
दीवारों में कैद खुशियों का नगर दिखाता हूँ - JNVFamily.In

दीवारों में कैद खुशियों का नगर दिखाता हूँ

आओ तुम्हे अपनी खुशियों का राज बताता हूँ
दीवारों में कैद खुशियों का नगर दिखाता हूँ
पी.टी. की घंटी पर न जागना
सर के आते ही जूते हाथ में लेकर भागना
अलसाते हुए पी.टी. ग्राउंड पर जाना
राष्ट्रीय गीत शुरु होते ही जग जाना
पी.टी. में पडे़ डंडों की दास्तान सुनाता हूँ
दीवारों में कैद खुशियों का नगर…..
उस दोस्ती का भी अलग ही आलम था
उन्ही से लड़ना और उन्ही से बात करना था
बाउंड्री कूदकर जाने के भी बहुत फसाने थे
पकडे़ जाने पर बचने के भी बहुत बहाने थे
आओ तुम्हें अपने दोस्तो से मिलाता हूँ
दीवारों में कैद खुशियों का नगर….
मैस से रोटी चुराकर लाना
कभी सब्जी तो कभी पोहा बनाना
H.M. के आते ही डरकर छुप जाना
कभी बिस्तर के नीचे तो कभी बिस्तर में दुबक जाना
रातों को हुई पार्टियों की दास्तान सुनाता हूँ
दीवारों में कैद खुशियों का नगर….
अपनी बेंच से उसे चुपके चुपके देखना
उसके देखते ही झट नजरें हटा लेना
हर टाइम बस उसे ही सोचते थे
उसे देखने के बहाने ढू्ँढते थे
आओ तुम्हें उस अरावली वाली से मिलाता हू्ँ
दीवारों में कैद खुशियों का नगर दिखाता हूँ
– अजय राज
Ajay Raj - JNVFamily.In

अजय राज

JNV Unnao, U.P.
Currently Studying In 9th Class
You Can Follow Him On Instagram By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #अजय राज, #jnv, #jnvU.P., #jnvunnao, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #दीवारों में कैद खुशियों का नगर दिखाता हूँ, #diwaro mein kaid khusiyoon ka nagar dikhata hu,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

पापा है ना दिखाएंगे नही….

No Comments
पापा है ना दिखाएंगे नही…. - JNVFamily.In

पापा है ना दिखाएंगे नही….

हॉस्टल पहुँचाकर भी
हाउस में जाने तक जाएंगे नही….
किसी कोने में खडे़ रहेंगे,
बताएंगे नही….
पापा है ना दिखाएंगे नही….
आँखों में आँसू होंगे,
एक बूँद मगर छल्कायेंगे नही…
वो दिखाएंगे नही कि तुम्हारी
फरमाइश को,
अनसुना करके भी, सुना है….
कि सिर्फ माँ ही नही
वो भी सीने में दिल रखते हैं…
सुपरमैन दिनभर बनकर,
रात में वो भी थकते हैं….
हर ठोकर से आगाह करेंगे,
गिरोगे तो आएगे वही
पापा है ना दिखाएंगे नही….
उनका दिल भी घबराता था
नींद उन्हें तब आती थी,
जब कॉल तुम्हारी आती थी
तानो में भी प्यार देखो,
बातों में बहलाएंगे नही…..
वो दिखाएंगे नही कि
तुम जिन्हें कंजूस समझते हो,
वो तुमपर सब लुटाने को तैयार है
वो बने पापा बाहर से है,
बनाकर देखो उनको अपना दोस्त
भी एक बार….
डांटेगें तुमको कि, ये क्या बेपरवाह
जवानी का जोश है,
पर दुनिया जो चूँ भी करे
तो कर देते खामोश है
सर भले ही हो ऊँचा
सर पर तुम्हे चढाएंगे नही…
पापा है ना दिखाएंगे नही….
– अभिलाषा सिंह
Abhilasha Singh - JNVFamily.In

अभिलाषा सिंह

JNV Chatra, Jharkhand
Currently Studying In 10th
You Can Follow His Instagram Page By Clicking The Below Button
Post Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash Photo by Nathan Dumlao on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #अभिलाषा सिंह, #jnv, #jnvjharkhand, #jnvchatra, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #पापा है ना दिखाएंगे नही…. #papa hain na dikhayenge nahi,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

हाँ मुझे प्यार है नवोदय से

No Comments
हाँ मुझे प्यार है नवोदय से - JNVFamily.In

हाँ मुझे प्यार है नवोदय से

हाँ मुझे प्यार है,
मुझे उसके कतरे कतरे से
इकरार है,
जिसने मुझे चलना सिखलाया
जिसने मुझे तपते रेत से
निकलना सिखलाया,
मुझे प्यार है उससे जिसने
मुझ गिरते हुए को बचाया,
उस नवोदय की क्या बात कहूं यारो
जिसने नरक में भी स्वर्ग
दिखलाया।
किसी ने कहा है क्या लेकर आए थे?
क्या लेकर जाओगे?
हम तो आंसू लेकर गए थे
आँसू लेकर आए है,
पर इन आँसूओ में अंतर उनसे पूछना
जिन्होंने सात साल वहां,
बिताए है।
मेरे दिल के करीब रहते
मेरे यार है,
हाँ मुझे प्यार है।
खाना खा लिया है
पर भूख है अब भी,
खाकर जहाँ जवान हुआ
उससे प्रीत है अब भी,
जिसे कोसते आए सात साल
उसी के लिए,
दिल बेकरार है,
हाँ मुझे प्यार है।
ले चल मुझे फिर से वही
कर कोई चमत्कार,
फिर से जगा दे मुझे
सिटी से,
फिर से कर प्रार्थना के लिए तैयार,
बैठा दे उसी बेंच पे
करा दे मुझे सारे दोस्तो का दीदार,
बजा दे फिर से डी० जे०
नचा दे फिर एक बार,
यही सब सोच के आँख
भर आती हर बार है,
हाँ मुझे प्यार है।
जिसे समझते रहे कैद हम
उसी के लिए दिल रोता हर बार है,
हाँ मुझे प्यार है नवोदय से ।।
– आदित्य राज
Aditya Raj - JNVFamily.In

आदित्य राज

Alumni Of JNV Chatra, Jharkhand
Batch:- 2012-2019
You Can Follow His Instagram Page By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #आदित्य राज, #jnv, #jnvjharkhand, #jnvchatra, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #हाँ मुझे प्यार है नवोदय से, #ha mujhe pyaar hain navodaya se, #yes i love navodaya,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

नवोदय के वो 7 वर्ष

No Comments
नवोदय के वो 7 वर्ष - JNVFamily.In

नवोदय के वो 7 वर्ष

नवोदय के वो 7 वर्ष,
वहां की हर कहानी पावन थी,
वो मैस की मस्तियाँ,
दोस्तों के साथ बदमाशियां
कितनी मनभावन थी,
टीचर्स की डांट और सीनियरों की मार
और 10th में मौसम मोहब्बत का,
कितना सुहावना था
निकलने के बाद कड़कड़ाती धूप,
ठिठुरती ठंड महसूस हुई
नवोदय में दोस्तों के साथ लगता,
जैसे हर महीना सावन था
दीवार फांद कर जंगलों से गुजर कर
मार्केट जाना,
इनके पीछे भी होती एक
दिलचस्प कहानी थी
जब तक था उसमें ,
कैद खाना लगता था
किसे पता था कि,
कैद खाने में ही स्वर्ग जैसी दीवानगी थी
टॉयलेट के बहाने पूरी अकेडमी ब्लॉक
के चक्कर लगाना,
ये भी कुछ कमीने दोस्तों
की मेहरबानी थी,
जब विदाई हो रही थी उस जन्नत से
हम लोगों की,
चेहरे पर झूठी मुस्कान और
आखों मे आँसु छुपे थे
सलाम उन शिक्षकों को
जो खुशियाँ बाँटते और प्यार जताते थे
– पीयूष निश्चल
पीयूष निश्चल - JNVFamily.In

पीयूष निश्चल

JNV Chatra (Jharkhand)
Batch:- 2011-2018
You Can Follow Him On Instagram By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #पीयूष निश्चल, #jnv, #jnvjharkhand, #jnvchatra, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #नवोदय के वो 7 वर्ष, #navodaya ke vo 7 varsh, #7 years of navodaya,

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

रविवार की शाम

No Comments
रविवार की शाम - JNVFamily.In

रविवार की शाम

वो रविवार की शाम भी
मुझपे बड़ा जुल्म ढाती थी
जो शूट मे कहर ढाती हो,
वो जीन्स टॉप पहन कर आती थी।
टीचर की नजरों से बचना भी होता था,
पर चोरी से नजरे छुपा के
उसे तकना भी होता था।
शृंगार उसका तब जानलेवा हो जाता था
जब उसके गालो पर
डिम्पल वाली मुस्कान आती थी।
नैनो से नैन मिलने का दौर होता था,
‘भाई भाभी को देख’ वाला शोर होता था।
उसके सौन्दर्य दर्शन मे
दिल खो जाता था,
मानो कल सुबह तक के इन्तजार
की दवा दे जाता था।
फिर वो अद्भुत घड़ी आती थी,
और इसी बीच प्रेयर खत्म हो जाती थी।
पर मुहब्बतों का सिलसिला
यही नही रुकना था
आखिरी बार उसे होस्टल की तरफ
जाते देखना था।
फिर इन्तजार ए शाम
का एक और पल था
शाम गुजार दी उसके ही ख्यालो मे,
अब मिलना उस से कल था।
वो रविवार की शाम ही ऐसी थी,
उसकी कई कहानी थी…..
यही वजह थी, कि
हम ही नही पूरा नवोदय
उस शाम का दिवाना था ।
– सचिन वर्मा
Sachin Verma - JNVFamily.In

सचिन वर्मा

JNV Chatra , Jharkhand
Batch:- 2010 – 2017
You Can Follow Him On Instagram By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #sachinverma, #jnv, #jnvjharkhand, #jnvchatra, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #रविवार की शाम, #ravivar ki shaam

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

नवोदय का आखिरी दिन

No Comments
नवोदय का आखिरी दिन - A Poem By Ajay Kumar- JNVFamily.In

नवोदय का आखिरी दिन

उस दिन
कई शक्लें दिखी
कुछ उदास आंखे
और कुछ मौन होंठ
हालांकि कुछ ने कोशिश की
सिले होंठो को खोलने की
लेकिन…
वो स्नेह और करुणा के अलावा कुछ न दें सके !
उस समय मेरे पाँव चाहते थे…की जम जाए
या फिर से दौड़े उस मॉर्निंग पी.टी. मे
या भागे…असेंबली मे लेट होते हुए
फिर से कूदे दिवार
मेरे हाथ अब भी चाहत मे थे
संडे को मिलकर कपडे धोने की
और निगाहें रख लेना चाहती थी
सहेज कर
बिल्डिगें, पानी की टंकी
और सबसे यादगार… हाउस का स्टोर
और मै इन सब को
यादो की पोटली मे सहेजता हुआ
घर छोड़कर मंजिल की तरफ बढ़ रहा था
– अजय कुमार
Ajay Kumar JNVFamily.In

Ajay Kumar

JNV Delhi-2 (Jaffarpur Kalan)
Batch:- 2012-2019
You Can Follow His Page By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash
Tags

#jnvfamily.in, #ajaykumar, #jnv, #jnvdelhi-2, #jnvjaffarpurkalan, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #नवोदय का आखिरी दिन, #navodaya ka aakhri din

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

Download JNVFamily.In-App( JNV’s Own Social Network Platform) By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain.

If You Want To See Other Wonderful Poem Click On The Below Button.

Thank You For Visiting Us. Have A Great Day.

नवोदय यारी

No Comments
नवोदय यारी - JNVFamily.In

नवोदय यारी

कहने को तो एक पिंजरा है,
हमारे लिए वो दुनियादारी है,
मुश्क्रिल है बयां शब्दों में कर पाना,
वो मस्ती वाली दुनिया कितनी प्यारी है,
रोम-रोस में बसती है जिसकी आभा,
उपवनों की वो एक क्यारी है,
वो नवोदय है, और नवोदय यारी है।
किसी को हॉस्टल, किसी को मेस
तो किसी को यहाँ की गली प्यारी है,
किसी को बुखार पढ़ाई की ते,
किसी को क्रिकेट की खुमारी है
किसी को झूठा दर्द पेट की है,
तो किसी को दिल की बीमारी है,
वो नवोदय है, और नवोदय यारी है।
बहुत सताते, बहुत चिढ़ाते,
मिलकर के रला भी देते हैं;
आ गए जो एक भी आँसू,
फ़िर सीने से लगा भी लेते हैं;
दास्तां दोस्ती की जहां की,
हर रिश्तों पर भारी है,
वो नवोदय है, और नवोदय यारी है।
– अभिनंदन कुमार
Abhinandan Kumar - JNVFamily.In

Abhinandan Kumar 

JNV Madhepura, Bihar
Batch-2012-2019
You Can Follow Him On Instagram By Clicking The Below Button
Post Background Image Credits
Photo by Paweł Czerwiński on Unsplash

Tags

#jnvfamily.in, #abhinandankumar, #jnv, #jnvmadhepur, #jnvBihar, #hindipoetry, #poetryislife, #poetryisnotdead, #नवोदय यारी, #navodaya yaari

If You Have Any Suggestion, Query Regarding Us, Feel Free To Send Us By Clicking The Below Button.

Do You Write Poems, make sketches, works in art and craft, Or have any other talent? Then, Collaborate with us. Send Your Details To Whatsapp 9773629072, or mail us to admin@jnvfamily.in.

You Can Visit Our Photo Gallery By Clicking The Below Button

Download JNVFamily.In-App( JNV’s Own Social Network Platform) By Clicking The Below Button

We Are Upgrading Ourselves Day By Day. Stay Connected To JNVFamily.In. Visit Daily For Exciting JNV Stuff. We Will Make An Incredible JNV Digital World.

JNV – These Are Not Just Three Words, This Is The Feeling We Can Never Explain. If You Are A Navodayan You Can Feel This.

error: Content is protected !!